मंगलवार, मार्च 12, 2013

सुआ पढ़ाए पींजरा....

(कहानी)
‘साहित्य नेस्ट’ पत्रिका के जनवरी 2013 के ‘सृजनकुंभ’ विशेषांक में प्रकाशित मेरी कहानी
(यदि इनलार्ज करके पढ़ने में असुविधा हो तो इसे डाउनलोड कर के आसानी से पढ़ा जा सकता है। )

- डॉ. शरद सिंह


































































































































































































































































































5 टिप्‍पणियां:

  1. पढ़ने में बड़ा कष्ट हो रहा है, डिजिटल प्रिन्ट होता तो आनन्द आ जाता..

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्कैनिंग अगर 300 dpi से कम हो तो पढ़ना बहुत मुश्किल है

    उत्तर देंहटाएं
  4. कहानी तो बहुत ही सार्थक है,परन्तु पढ़ने में परेशानी हुई,आभार.

    उत्तर देंहटाएं