गुरुवार, मई 03, 2012

सोचा तो होता.....

‘लमही’ के अप्रैल-जून 2012 अंक में प्रकाशित मेरी कहानी


- डॉ. शरद सिंह







बड़ा कर के पढ़ने के लिए कृपया इमेज़ पर क्लिक करें -




6 टिप्‍पणियां:

  1. बधाइयाँ...इस उपलब्धि के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस उत्साहवर्द्धन के लिए अत्यन्त आभारी हूं। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद !

      हटाएं
  2. बहुत बधाई, पोस्ट के रूप में भी छाप दें, पढ़ने में सुविधा होगी।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके विचारों ने मेरा उत्साह बढ़ाया. हार्दिक धन्यवाद एवं आभार ....
      आपका सुझाव अच्छा है। हार्दिक धन्यवाद !

      हटाएं
  3. पढ़ तो नहीं पाया। पर बधाई तो दे ही सकता हूं। एक पोस्ट तो यहां भी लगा ही सकती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शरद जी बहुत बधाई. मनोज जी और प्रवीण जी का सुझाव ठीक ही है यदि संभव हो तो इसे पोस्ट के रूप में भी दीजिए.

    उत्तर देंहटाएं